Chhattisgarh

प्रभारी मंत्री जयसिंह अग्रवाल की अध्यक्षता में खनिज संस्थान न्यास की प्रथम बैठक आयोजित

स्वास्थ्य, पोषण एवं शिक्षा सहित नवगठित जिले के विकास कार्य में हो डीएमएफ की राशि का उपयोग- प्रभारी मंत्री

गौरेला-पेंड्रा-मरवाही/4 अगस्त 2020/राजस्व एवं आपदा प्रबन्धन, पुनर्वास तथा वाणिज्यिक कर (पंजीयन एवं मुद्रांक) और जिले के प्रभारी मंत्री जयसिंह अग्रवाल की अध्यक्षता में आज जिला खनिज संस्थान न्यास की शासी परिषद की पहली बैठक हुई जिसमें जिले के खनन प्रभावित क्षेत्रों के लिए लगभग 14 करोड़ 71 लाख रुपए के विभिन्न कार्यों का अनुमोदन किया गया। कलेक्टर डोमन सिंह ने जिला खनिज संस्थान न्यास के अंतर्गत प्रस्तावित कार्य योजना में शामिल कार्यों के संबंध में बारी-बारी से जानकारी दी।बैठक में लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी अंतर्गत 1 करोड़ 44 लाख, स्वास्थ्य विभाग अंतर्गत 2 करोड़ 65 लाख, पंचायत एवम ग्रामीण विकास विभाग अंतर्गत 3 करोड़ 39 लाख, शिक्षा विभाग अंतर्गत 3 करोड़ 3 लाख, महिला व बाल विकास विभाग अंतर्गत 82 लाख रुपए, नगरीय प्रशासन एवं विकास अंतर्गत 50 लाख, पशु चिकित्सा विभाग अंतर्गत 15 लाख रुपये, कृषि विभाग अंतर्गत 16 लाख रुपये, उद्यान विभाग अंतर्गत 17 लाख रुपये, सहकारिता विभाग अंतर्गत 21 लाख रुपये, पुलिस विभाग अंतर्गत 10 लाख रुपये, आदिम जाति कल्याण विभाग अंतर्गत 75 लाख रुपये, क्रेडा विभाग अंतर्गत 72 लाख 64 हजार रुपये, समाज कल्याण विभाग अंतर्गत 50 लाख रुपये इस प्रकार कुल 14 करोड़, 71 लाख 35 हजार रुपये की कार्ययोजना का अनुमोदन किया गया।

प्रभारी मंत्री जयसिंह अग्रवाल ने कहा कि जिला खनिज संस्थान न्यास से विभिन्न विकास कार्यों के लिए जारी गाइड लाइन के आधार पर शिक्षा, स्वास्थ्य, पेयजल सहित अन्य मदों पर धन राशि स्वीकृत की जाती है। उन्होंने कहा कि जिला खनिज संस्थान न्यास अंतर्गत स्वीकृत कार्यों मे गाइड लाईन का सही तरीके से पालन होना चाहिए। जिला खनिज न्यास निधि से खनन प्रभावित क्षेत्रों में लोगों का जीवन स्तर ऊंचा उठाने और उनके कल्याण के उद्देश्य से कार्य किया जाना चाहिये। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य, पोषण, शिक्षा, पेयजल आदि क्षेत्रों में प्राथमिकता के आधार पर डीएमएफ की राशि का उपयोग किया जाए। उन्होंने कहा कि कुपोषण के खिलाफ निरंतर कार्य करते हुए जिले में बच्चों और माताओं के जीवन स्तर को बेहतर किया जाए। उन्होंने सभी विभागीय अधिकारियों को निर्देश दिए कि जमीनी स्तर पर मजबूती से काम करें। उन्होंने कहा कि आंगनबाड़ी केन्द्र के माध्यम से संचालित सेवाओं के द्वारा महिलाओं और बच्चों के पोषण स्तर में सुधार लाने के लिए डीएमएफ की राशि का इस्तेमाल किया जाएगा।बैठक में सांसद श्रीमती ज्योत्स्ना महंत ने कहा कि डीएमएफ के माध्यम से आम जनता के लिए आवश्यक सभी सुविधाएं उपलब्ध कराई जा सके, इसके लिये सभी विभाग समन्वित रूप से प्रयास करे।बैठक मे स्वास्थ्य विभाग अंतर्गत विशेषज्ञ चिकित्सकों तथा पैरामेडिकल स्टाफ की नियुक्ति, उपस्वास्थ्य केन्द्रों मे प्रसव कक्ष का निर्माण, एम्बुलेंस वाहन, शव वाहन, पंचायत एवम ग्रामीण विकास विभाग अंतर्गत 84 मुक्तिधाम का निर्माण, 25 गौठानो मे कक्ष सह शेड निर्माण, शिक्षा विभाग मे बैगा बच्चों की विशेष कोचिंग, विद्यालयों मे अतिरिक्त कक्ष, लोक स्वास्थ्य विभाग अंतर्गत पेयजल उपलब्धता, गौठानो मे बोरवेल, महिला बाल विकास विभाग अंतर्गत मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान व 334 आंगनबाड़ी केंद्रों मे गैस कनेक्शन, नगरीय प्रशासन विभाग अंतर्गत फायर ब्रिगेड वाहन, 2 ओपन जिम, कृषि विभाग अंतर्गत गौठानो में वर्मी बेड, सहकारिता विभाग अंतर्गत 7 धान चबूतरों में शेड निर्माण, जिला प्रशासन द्वारा अरपा महोत्सव के आयोजन, पुलिस विभाग द्वारा शहर मे सीसीटीवी कैमरा, आदिम जाति कल्याण विभाग द्वारा एकलव्य विद्यालय छात्रावास डोंगरिया में बाउंड्रीवाल, आडिटोरियम व विद्युतीकरण, क्रेडा विभाग द्वारा गौठानो मे सोलर पम्प की स्थापना, अविद्युतिकृत घरों में सोलर होम लाइट के माध्यम से विद्युतिकरण का कार्य, समाज कल्याण विभाग द्वारा दिवव्यांगजनो के लिए सहायक उपकरण आदि कार्यो की स्वीकृति प्रदान की गई।

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close