AutomobileChhattisgarhEntertainmentGadgetsUncategorizedWorld

राजधानी रायपुर के थाने में धर्मांतरण पर बवाल:इंस्पेक्टर के कमरे में घुसकर पादरी को जूतों से पीटा, धर्म परिवर्तन करवाने का आरोप; हंगामे के बाद SSP ने थानेदार को हटाया

पुरानी बस्ती थाने में रविवार की दोपहर भाटागांव के रहने वाले कुछ लोगों ने पहुंचकर हंगामा कर दिया।

नीतेश वर्मा

ब्यूरो हेड

रायपुर

 

रायपुर में धर्मांतरण को लेकर बड़ा बवाल हो गया है। पुरानी बस्ती थाने में रविवार की दोपहर भाटागांव के रहने वाले कुछ लोगों ने पहुंचकर हंगामा कर दिया। एक पादरी पर धर्म परिवर्तन का आरोप लगाकर इंस्पेक्टर के कमरे में घुसकर जूतों से उसकी पिटाई कर दी गई। ये लोग क्षेत्र में धर्मांतरण की शिकायत लेकर थाने पहुंचे थे। कुछ ही देर में कुछ संगठन के नेता भी थाने पहुंच गए। थाने का घेराव कर दिया गया। थाने में ही नारेबाजी शुरू ही गई। इस मामले में रायपुर के SSP अजय यादव ने थानेदार यदुमणी सिदार के खिलाफ एक्शन लिया है। शाम होते ही SSP दफ्तर से थाना प्रभारी सिदार को लाइन अटैच किए जाने का ऑर्डर जारी कर दिया। अब इनकी जगह इंस्पेक्टर नितेश ठाकुर को पुरानी बस्ती थाने का चार्ज दिया गया है।

ऐसे बढ़ा विवाद

प्रदर्शनकारी पुलिस अफसरों पर धर्मांतरण करने वालों के खिलाफ कार्रवाई की मांग करने लगे। लोगों की शिकायत के आधार पर पुलिस ने भाटागांव इलाके में धार्मिक सभाएं करने वाले ईसाई समुदाय के कुछ लोगों को थाने बुलवा लिया। पहले से ही थाने में मौजूद संगठन के नेता ईसाई समुदाय के लोगों को देख भड़क गए। दोनों गुटों के बीच जबरदस्त विवाद हो गया। जैसे-तैसे एक पादरी को पुलिस, थाना प्रभारी के कमरे में लेकर गई। यहां भी हंगामा करते हुए लोग पहुंच गए और जूतों से पादरी की पिटाई कर दी। पुलिसकर्मियों ने बड़ी मुश्किल से हमला करने वालों की भीड़ को कमरे से बाहर निकाला। थाने में इस कदर हंगामा मचाने वालों में कुछ भाजपा नेता भी शामिल थे।

पुलिस के लिए भीड़ बनी सिर दर्द

रायपुर के पुरानी बस्ती थाने में शाम होते-होते माहौल जरा शांत हुआ। थाने की टीम दोनों पक्षों को शांत कराकर पूछताछ करने का प्रयास करती रही। दोनों गुटों के लोगों की भीड़ पुलिस के लिए सिर दर्द बन चुकी थी। दूसरी तरफ संगठन के नेता लगातार धर्मांतरण के खिलाफ थाने में ही धरना देकर नारेबाजी करते रहे। सभी की मांग थी कि फौरन पादरी और उसके समर्थकों को गिरफ्तार किया जाना चाहिए। आरोप है कि इनके द्वारा भाटागांव इलाके में धार्मिक सभाएं की जा रही थी और कुछ ग्रंथ जबरन लोगों के बीच बांटे जा रहे थे। दूसरी तरफ ईसाई समुदाय की अपनी दलील है, वह धर्मांतरण के आरोपों को सिरे से खारिज कर रहे हैं। थाने में महिलाएं भी मौजूद रहीं।

7 लोगों पर केस दर्ज

थाने में हुए हंगामे के बाद ईसाई समुदाय के लोग भी जमा हो गए। पुलिस पर मारपीट करने वालों के खिलाफ केस दर्ज करने को कहा गया। अब इस मामले में सम्भव शाह, शुभान्कर द्विवेदी, मनीष साहू, संजय सिंह, विकाश मित्तल, अनुरोध शर्मा, शुभम अग्रवाल के खिलाफ केस दर्ज किया गया है। कचना के रहने वाले छत्तीसगढ़ क्रिस्चन फोरम का महासचिव अंकुश बरियेकर की शिकायत मारपीट का केस दर्ज किया गया है। बरियेकर ने पुलिस को बताया कि थाने में पास्टर हरीश साहू और प्रकाश मसीह पर आरोपी युवकों ने हमला किया। समाज के लोगों ने भी जल्द से जल्द इनकी गिरफ्तारी की मांग कर रहे हैं।

Related Articles

Back to top button
Close
Close