AutomobileBilaspurChhattisgarhEntertainmentGadgetsGaurella pendra marwahiIndiaRaipurUncategorizedWorld

छत्तीसगढ़ के दिव्यांग केंद्र में बच्ची से रेप:नशे में धुत दो कर्मचारियों ने कई के कपड़े फाड़कर फेंके, नग्न हालत में जान बचाने भागते रहे; सभी बच्चे बोल और सुन नहीं सकते

एडिशनल SP प्रतिभा पांडेय ने बताया कि अभी तक एक दिव्यांग बच्ची से दुष्कर्म और 5 छात्राओं से छेड़छाड़ की घटना का पता चला है।

नीतेश वर्मा

ब्यूरो हेड

 

छत्तीसगढ़ में शर्मसार कर देने वाला मामला सामने आया है। यहां जशपुर स्थित समर्थ दिव्यांग केंद्र में केयर टेकर और चौकीदार ने नशे की हालत में जमकर उत्पात मचाया। कर्मचारियों ने दिव्यांग बच्चों से मारपीट और अश्लील हरकत की। आरोपियों ने बच्चों के कपड़े फाड़ दिए और उन्हें नग्न हालत में कैंपस में भागने के लिए मजबूर कर दिया। चौकीदार ने 15 साल की एक बच्ची से दुष्कर्म किया। जबकि कई अन्य बच्चियों से यौन उत्पीड़न की बात सामने आई है। घटना 3 दिन पुरानी है। जब बच्चियों से उनसे परिजन मिलने पहुंचे तो इसका पता चला।

खनिज न्यास मद के तहत राजीव गांधी शिक्षा मिशन की ओर से इस दिव्यांग केंद्र का संचालन किया जाता है। घटना 22 सितंबर देर रात की है। बताया जा रहा है कि घटना की रात हॉस्टल अधीक्षक वहां नहीं थे। बच्चों की जिम्मेदारी यहां के केयर टेकर राजेश राम और चौकीदार नरेंद्र भगत पर थी। दोनों रात करीब 11 बजे शराब के नशे में धुत केंद्र में पहुंचे। वहां आरोपियों ने शोर मचाना शुरू कर दिया और सो रहीं बच्चों को जगा दिया। हॉस्टल में 22 दिव्यांग बच्चे और 12 बच्चियां रहती हैं। कोई भी बोल और सुन नहीं सकता है।

 

कुछ बच्चों को उठाकर नाली में फेंका
इसके बाद आरोपियों ने बच्चों से मारपीट शुरू कर दी। कुछ बच्चियों के कपड़े फाड़ दिए। वहीं किसी तरह से बचकर भाग रहे बच्चों को उठाकर हॉस्टल कैंपस की नाली में फेंक दिया। इस दौरान हॉस्टल की स्वीपर कुमारी बाई बीच-बचाव करने पहुंची तो उसे आरोपियों ने बाथरूम में बंद कर दिया। किसी तरह से वह बाहर निकली और फोन कर हॉस्टल अधीक्षक संजय राम को सूचना दी। इस पर वह रात में ही केंद्र पहुंच गए और कर्मचारियों को बाहर किया।

रात को ही शिक्षकों को बुलाया गया
बच्चों के साथ क्या-क्या हुआ है, इसे पता करने के लिए हॉस्टल अधीक्षक ने रात में ही शिक्षकों को बुलाया। बच्चे बोलकर कुछ भी बता पाने में सक्षम नहीं हैं। दिव्यांग बच्चों ने संकेत की भाषा में केयर टेकर और चौकीदार की करतूतों को बताया। इसके बाद हॉस्टल अधीक्षक ने घटना की सूचना विभाग में दी। विभाग ने केयर टेकर राजेश राम और चौकीदार नरेन्द्र भगत को पद से हटा दिया है। इसके बाद घटना को दबाने का भी प्रयास किया गया।

आरोपियों को हिरासत में लिया गया
केंद्र में संकेतिक भाषा समझने के लिए टीचर या कर्मचारी नहीं हैं। ऐसे में इंटरप्रेटर की मदद से बच्चियों से जानकारी ली जाएगी। मामले की गंभीरता को देखते हुए कलेक्टर ने तत्काल जांच के निर्देश दिए। एडिशनल SP प्रतिभा पांडेय ने बताया कि अभी तक एक दिव्यांग बच्ची से दुष्कर्म और 5 छात्राओं से छेड़छाड़ की घटना का पता चला है। आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज कर उन्हें हिरासत में ले लिया गया है। पूछताछ की जा रही है।

Advertisement

Related Articles

Back to top button
Close
Close