Chhattisgarh

कोरिया जिले में 75 वां स्वतंत्रता दिवस गरिमामय एवं हर्षोल्लास से मनाया गया, उत्कृष्ट कार्य करने वाले 76 कर्मचारी और कोरोना वारियर्स हुए सम्मानित

विधानसभा अध्यक्ष डॉ. महंत ने जिला मुख्यालय बैकुण्ठपुर में ध्वजारोहण कर ली परेड की सलामी।

दुर्गा केसरवानी कोरिया / भारत की आजादी का 75 वां स्वतंत्रता दिवस कोरिया जिले में गरिमामय, हर्षोल्लास और देशभक्ति पूर्ण वातावरण में मनाया गया। जिला मुख्यालय बैकुण्ठपुर के शासकीय आदर्श रामानुज उच्चतर माध्यमिक विद्यालय के मिनी स्टेडियम में आयोजित स्वतंत्रता दिवस के मुख्य समारोह में विधानसभा अध्यक्ष डॉ. चरणदास महंत ने मुख्य अतिथि की आसंदी से ध्वजारोहण कर परेड की सलामी ली। इसके बाद डॉ. महंत ने तिरंगे के प्रतीक रंग बिरंगे गुब्बारे एवं श्वेत कपोत आकाश में छोड़े।

स्वतंत्रता दिवस के मुख्य समारोह के मुख्य अतिथि डॉ महंत ने 75वें स्वतंत्रता दिवस की जिले की समस्त जनता को हार्दिक बधाई प्रेषित की। उन्होंने अपने संदेश में कोरिया जिले की प्राकृतिक सुंदरता और व्यवसायिक महत्व का उल्लेख करते हुए वनवासी, आदिवासी बाहुल्य इस सम्पूर्ण क्षेत्र को सामाजिक समरसता और सद्भाव के लिए आदर्श बताया। उन्होंने कोरिया क्षेत्र की माटी के महान सपूतों को स्मरण कर श्रद्धांजलि अर्पित की। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल के कुशल नेतृत्व में पूर्ण ईमानदारी के साथ प्रदेश के सामाजिक सांस्कृतिक मूल्यों को संरक्षित रखते हुए गढ़बो नवा छत्तीसगढ़ जैसे नवाचार से प्रदेशवासियों का सपना साकार हो रहा है। उन्होंने राष्ट्रीय महापुरुषों, देशभक्तों के आदर्शों और सिद्धान्तों का अनुसरण कर, नए संकल्पों के साथ आगे बढ़ने हेतु प्रेरित किया।

तत्पश्चात कलेक्टर श्री श्याम धावड़े ने मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल का प्रदेश की जनता के नाम प्रेषित संदेश का वाचन किया। कार्यक्रम में डॉ. महंत ने शहीदों के परिजनों को शाल व श्रीफल देकर सम्मानित किया। इसके साथ ही कोरोना काल में जिले में उत्कृष्ट कार्य करने वाले अधिकारियों-कर्मचारियों, स्थानीय जनप्रतिनिधियों सहित स्व सहायता समूहों को प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया गया। इनमें कृषि विज्ञान केंद्र बैकुण्ठपुर के वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ. रंजीत सिंह राजपूत, बी.के.पी. ब्लड डोनर ग्रुप सहित स्वास्थ्य विभाग के 25 अधिकारी-कर्मचारियों, पुलिस विभाग के 6, जिला सेनानी नगर सेना के 5, राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन बिहान के 2, शिक्षा विभाग के 5, वनमण्डल मनेन्द्रगढ़ के 4, खाद्य शाखा के 2, कार्यालय अनुविभागीय अधिकारी राजस्व भरतपुर एवं सोनहत के 9 कर्मचारियों को प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया गया। इसी तरह जनपद पंचायत सोनहत, खड़गवां तथा बैकुण्ठपुर के शत-प्रतिशत टीकाकृत गांवों के जनप्रतिनिधियों तथा स्व सहायता समूहों को उनके बेहतर प्रदर्शन हेतु सम्मानित किया गया। प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र मनसुख को डॉ. खूबचंद बघेल स्वास्थ्य सहायता योजना-आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना में शीर्ष प्रदर्शन करने हेतु शासन से प्राप्त प्रशस्ति पत्र मुख्य अतिथि डॉ. महंत के हाथों प्रदाय कर सम्मानित किया गया।

इस अवसर पर कोरबा लोकसभा क्षेत्र की सांसद श्रीमती ज्योत्सना महंत, संसदीय सचिव एवं बैकुण्ठपुर क्षेत्र की विधायक श्रीमती अंबिका सिंहदेव, सरगुजा विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष एवं भरतपुर-सोनहत क्षेत्र के विधायक श्री गुलाब कमरो, मनेन्द्रगढ़ विधायक डॉ. विनय जायसवाल, पुलिस अधीक्षक, अपर कलेक्टर, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी, जनप्रतिनिधिगण, गणमान्य नागरिक, प्रिन्ट व इलेक्ट्रानिक मीडिया के प्रतिनिधियों सहित जिला प्रशासन और पुलिस प्रशासन के अधिकारी-कर्मचारी एवं बड़ी संख्या में शालेय छात्र-छात्राएं और नगरवासी मौजूद थे।

 

75वें स्वतंत्रता दिवस पर मुख्यमंत्री श्री बघेल ने की मनेन्द्रगढ़ सहित 4 नये जिले तथा 18 नई तहसीलों के गठन की ऐतिहासिक घोषणा-

मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने आज 75वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर प्रदेश की जनता के नाम अपने संदेश के दौरान प्रदेशवासियों को कई ऐतिहासिक सौगातें दी। मुख्यमंत्री ने छत्तीसगढ़ प्रशासनिक विकेन्द्रीकरण के सिलसिले को और आगे बढ़ाते हुए छत्तीसगढ़ राज्य में जिलों का पुनर्गठन करते हुए चार नए जिलों चार नये जिले ‘मोहला-मानपुर’, ‘सक्ती’, ‘सारंगढ़-बिलाईगढ़’ तथा ‘मनेन्द्रगढ़’ के गठन की ऐतिहासिक घोषणा की। उन्होंने राज्य में 18 नई तहसीलों के गठन का भी ऐलान किया। राज्य में राजस्व संबंधी कामकाज की जटिलता से राहत दिलाने के लिए नामांतरण की प्रक्रिया को सरल करने, सभी जिला मुख्यालयों एवं नगर-निगमों में महिलाओं के लिए ‘मिनीमाता के नाम से एक उद्यान विकसित करने तथा प्रदेश के महाविद्यालयांे में प्रवेश के लिए आयु-सीमा का बंधन को समाप्त करने की घोषणा की। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश की जनता को रियायती दर पर दवा उपलब्ध कराने के लिए नगरीय क्षेत्रों में लागू ‘मुख्यमंत्री सस्ती दवा योजना’ अब ‘श्री धन्वन्तरी योजना’ के नाम से जानी जाएगी। उन्होंने बिजली कंपनियों में विभिन्न पदों पर 2 हजार 500 से अधिक कर्मियों की भर्ती तथा ‘डायल 112’ सेवा की उपयोगिता को देखते हुए इसका विस्तार अब पूरे प्रदेश में किए जाने की घोषणा की है।

Related Articles

Back to top button
Close
Close